सालाना रिटर्न जीएसटीआर-9 की कुछ जरूरी जानकारी

वस्तु एवं सेवा कर में वित्तीय साल 2017-18 की खरीद बिक्री, इनपुट टैक्स क्रेडिट का ब्योरा सालाना रिटर्न जीएसटी आर-9 में दे सकते हैं। इस रिटर्न में संशोधन की सुविधा है ताकि जीएसटी के अन्य रिटर्न में कोई गलती हो तो सुधार किया जा सके।
रिटर्न में भरने से छूटी खरीद बिक्री आईटीसी का सालाना रिटर्न में दे ब्योरा
राज्य कर अफसरों के मुताबिक जीएसटी में खरीद के लिए 1, 2 ए और बिक्री के लिए 3 बी रिटर्न वगैरह होते हैं। जीएसटी आर-9 में साल भर की खरीद, बिक्री, इनपुट टैक्स क्रेडिट का विवरण इन रिटर्न से आ जाएगा। वहीं इस रिटर्न में किसी महीने की छूटी हुई खरीद, बिक्री, गलती से लिया गया इनपुट टैक्स क्रेडिट, मानवीय भूल के चलते गलती से हुई प्रविष्टि का भी संशोधन कर सकते हैं। इस रिटर्न में अप्रैल 2017 से मार्च 2018 तक संपूर्ण विवरण देना होगा। 31 दिसंबर तक यह रिटर्न जमा करना है। इस रिटर्न को ऑफलाइन तक फॉर्मेट आ गया है लेकिन पोर्टल पर ऑनलाइन नहीं आया है।

तीन प्रकार का है सालाना रिटर्न
सालाना रिटर्न तीन किस्म का हैं। कारोबारी जीएसटी आर-9, कंपोजिशन (समाधान) कारोबारी जीएसटी आर-9ए, ई-कॉमर्स ऑपरेटर आदि जीएसटी आर-9 बी देंगे। वहीं दो करोड़ से ज्यादा का टर्नओवर वाले कारोबारी जीएसटी आर-9 सी में ऑडिट रिपोर्ट जमा कर सकते हैं।

छह हिस्सों और 18 टेबल में है रिटर्न
सालाना रिटर्न जीएसटी आर-9 छह हिस्सों और 18 टेबल में बंटा है। इनमें खरीद, बिक्री, आईटीसी आदि का संपूर्ण विवरण है।

30 सितंबर तक सभी रिटर्न जमा होने पर ही कर सकेंगे संशोधन
जीएसटी आर-9 में संशोधन की सुविधा उन्हीं कारोबारियों को मिलेगी, जिनके सभी रिटर्न 30 सितंबर 2018 तक जमा है। यानी जिस कारोबारी ने जीएसटी आर 1, 2, 3, 4 आदि 30 सितंबर तक जमा किए हैं, वहीं गलती सुधार सकता है। अगर किसी ने एक भी रिटर्न जमा नहीं किए हैं तो वह कारोबारी सालाना रिटर्न जमा करेगा लेकिन उसे संशोधन की सुविधा नहीं मिलेगी।

जीएसटी आर-9 का फॉर्मेट आ गया है। किसी भी कारोबारी की किसी भी महीने की खरीद, बिक्री आदि छूट गई या गलती हो तो इसमें संशोधन कर सकता है।
– विनय प्रकाश ओझा, सहायक आयुक्त, राज्य कर

*GSTR-9*

All the registered taxable persons under GST as regular taxpayers filing GSTR 1, GSTR 2, GSTR 3 are required to file GSTR-9.
However, the following persons are not required to file GSTR 9:
A. Casual Taxable Person
B.Input service distributors
3.Non-resident taxable persons
4. Persons paying TDS under section 51 of GST Act.

*Due date of GSTR-9*
GSTR-9 shall be filed on or before 31st December of the subsequent financial year.For instance, for FY 2017-18, the due date for filing GSTR 9 is 31st December 2018.

*Penalty for the late filing of GSTR-9 return*
Late fees for not filing the GSTR 9 within the due date is Rs. 100 per day per act up to a maximum of an amount calculated at a quarter percent of the taxpayer turnover in the state or union territory. Thus it is Rs 100 under CGST & 100 under SGST, total penalty is Rs 200 per day of default. There is no late fee on IGST.

*Online Filing Process Of Annual Return GSTR-9*
💥 Based on GSTR-1 and GSTR-3B filed during the year, facility to download system computed GSTR-9 as PDF format will be available.

💥 Based on GSTR-1 filed, consolidated summary of GSTR-1 will be made available as PDF download.

💥 Based on GSTR-3B filed, consolidated summary of GSTR-3B will be made available as PDF download.

💥 In each table of GSTR-9, values will be auto-populated to the extent possible based on GSTR-3B and GSTR-1 of the year. All the values will be editable with some exceptions (table 6A, 8A and tax payment entries in table 9).

💥 NIL return can be filed through single click.
Offline

💥 Offline tool to be downloaded from the portal.

💥 Auto-populated GSTR-9 (System computed json) to be downloaded from the portal before filling up values.

💥 Table 6A and table 8A will be non-editable.Other values will be editable barring tax payment entries in table 9.

💥 After filling up the values, json file to be generated and saved.
After logging on the portal, the json file to be uploaded.

💥 File will be processed and error if any will be shown.

💥 Error file to be downloaded from the portal and opened in the Excel tool.

💥 After making corrections, file will again be uploaded on the portal.

💥 Corrections can be made online also except table 17 & 18 if the number of records exceeds 500 in each table.

💥 After filing, return can be downloaded as PDF and/or Excel.

💥 Revision facility is not there, therefore, return should be filed after reconciling the information provided in the return and in the books.

*Payment while filing GSTR-9*:
i. Except late fee, if any, no payment is to be made with annual return.
ii. Payment can be made on voluntary basis through GST DRC-03, if required.